Dengue symptoms in Hindi जानकारी | Symptoms of dengue in hindi

Symptoms of dengue in hindi

Dengue symptoms in hindi के बारे में आज के समय में सभी के पास जानकारी होना बहुत जरुरी है. क्युकी ये डेंगू बीमारी बहुत खतरनाक है किसी भी ब्यक्ति के लिए.लेकिन घबराने की कोई जरुरत नही है.

आज में  पूरी जानकारी देने वाला हु इस बीमारी के बारे में. जिसे आप लोग पड़के पूरी तरह से जन पाओगे की कोनसा कारन है जिसके लिए  ये बीमारी होता है और कोण कोण सा लोग इस बीमारी से छुटकारा पा सकता है.

पूरी जानकारी देने वालाहू की अगर किसी को ये बीमारी हो जाता है तो बो कैसे बच सकता है. तो आप सभी को रिक्वेस्ट है की इस पोस्ट symptoms of dengue in hindi को अंत तक पड़े ताकि आपको इसके बारे में सहि जानकारी पता चले.

Dengue एक प्रकार का बुखार है जो डेंगू वायरस के कारन होता है. लेकिन क्या आपको पता है की ये वायरस आखिर कहा से आता है. तो में आपको बतादू की डेंगू मच्छर के काटने से ये बिमारी होता है.

हलाकि तिन प्रकार के मच्छर होता है, एडिस, क्यूलेक्स और अनोफ्लिक्स, तो जब आपको वायरस वाला एडिस मच्छर कटता तब आपको dengue बुखार हो जाता है. तो चलिए शुरू करते है.

डेंगू क्या है ? Dengue symptoms in Hindi

Dengue symptoms in Hindi

में आपको पहले ही बता चूका हु की डेंगू वायरस के कारन मच्छर दुवारा काटने से होता है. डेंगू में बहुत तेज बुखार होता है. तो इसीलिए इसे हड्डी तोड़ बुखार भी कहा जाता है. ये बुखार होने पर हड्डी टूटने जैसा दर्द महसूस होता है.

सन 1980 में डेंगू बुखार का पहला मरीज पाया गया था. तब से लेके आज तक बहुत लोगो को ये बीमारी का सामना करना पाड़ रहा है. और हर साल इस बीमारी के कारन 5,00000 लोगो को अस्पताल में भर्ती होना पड़ता है.

छोटे उम्रे के बच्चे में भी ये बीमारी देखने को मिलता है. इस dengue की इलाज सही समय पर करना बहुत जरुरी है. नही तो इसके कारन दूर घटना भी घाट सकता है.

डेंगू की लक्षण | Dengue symptoms in hindi

जैसे की डेंगू एक प्रकार का वायरस दुवारा बुखार है तो इसीलिए इस बीमारी से बहुत तेज बुखार होता है. और अगर डॉक्टर को कुछ भी संदेह होता है तो सबसे पहले ब्लड को टेस्ट कराता है. उसके बाद ही पूरी तरह से पता चलता है की डेंगू हुवा है या नही.

तो चलिए dengue symptoms क्या क्या होता है बिस्तार से देखते है.

  • अगर किसी ब्यक्ति को डेंगू होता है तो उसका लक्षण दिखने में लगभग 7 से 9 दिन लग जाता है.
  • Dengue का सबसे प्रमुख लक्षण होता है तेज बुखार. लगभग 103 डिग्री F तक बुखार होने का संभावना रहता है.
  • शारीर में बहुत तेज दर्द होना, जोड़ो में दर्द होना एहम बात होता है किसी भी ब्यक्ति के लिए.
  • भूख ना लगना, सिर में दर्द होना, उलटी करने का मन ये सब डेंगू की शुरुवाती लक्षण होता है.
  • आँखों का रंग लाल हो जाता है, चेहरे पर गुलाबी दाने दिखना डेंगू के लिए खतरा होता है.
  • शारीर में तापमात्र अधिक हो जाना डेंगू के एहम लक्षण होता है.
  • अगर किसी ब्यक्ति को डेंगू हो जाता है तो उन्हें थकन महसूस होता है.

तो ये सारे एहम लक्षण होता है डेंगू बीमारी के लिए. लेकिन घबरानेकी कोई जरुरत नही है आगे  हम जानेंगे की कैसे Dengue Symptoms in hindi से खुदको बचा सकते हो. तो चलिए शुरू करते है.

Symptoms of Dengue in hindi

डेंगू से बचाब (Treatment of Dengue Symptoms in Hindi ) 

Dengue साधारणत एक वायरस बीमारी है. इसका लक्षण देखके ही इसका ट्रीटमेंट किया जाता है. लेकिन ये कितना गंभीरता है उसे जाच करने के लिए आपको ब्लड टेस्ट करना पड़ता है.

टेस्ट की रिपोर्ट देख के ही इसका ट्रीटमेंट शुरू किया जाता है. और इसके मुताबिक डॉक्टर ने जो भी सुझाब देता है उसे पूरी तरीके से पालन करना पड़ता है.

अगर आप सही तरीके से डॉक्टर दुवारा दिए गयी दावा समय समय पर लेते हो तो ये 7- 8 दिन में ठीक हो जायेगा. लेकिन कुछ खाश ख्याल रखना बहुत जरुरी होता है बीमार ब्यक्ति के लिए.

अगर घर पर रहता है तो आप इस तरीके से ख्याल रख सकते हो. तो चलिए देखते है की क्या क्या ख्याल रखना जरुरी है.

  1. डोक्टोरो दुवारा दिए गए दबाओ को सही तरीके से लेना

डॉक्टर के पास जाके जाच करके जो भी दबाई देंगे उन्हें सही मात्रा में खाना चाहिए. बहुत लोग एसा सोचता है की अगर हम ज्यादा से ज्यादा दबाई लेंगे तो बहुत जल्द ही ठीक हो जायेंगे. लेकिन एसा बिलकुल सही नही होता है उल्टा कुछ गलत हो सकता है.

इसीलिए डोक्टोरो से सलाह करके की दबाई ले और उनके मुताबिक ही खाइए और शुस्थ रहिये.

  1. ज्यादा से ज्यादा पानी पिए

जब किसी ब्यक्ति को डेंगू हो जाता है तो उनके शारीर का तापमात्र बड़ जाता है. इसीलिए उनके शारीर में पानी का कमी हो जाता है और इसके कारन धमनियों में रक्त की मात्रा कम हो जाता है.

इसीलिए ज्यादा से ज्यादा पानी पीना चाहिए ताकि धमिनियो में रक्त की मात्रा में बड़त्रि हो साके. और डेंगू की रुगी के लिए तरल आहार सेबन करना बहुत जरुरी होता है.

  1. रुगी की देखभाल करे

आपने भी देखा होगा की जितने प्रकार का भी बुखार होता है उस मे ज्यादातर एक ही जगह में रह के आराम करता है. तो इसीलिए डेंगू की रुगी को भी उनके मुताबिक आराम करना देना चाहिए.

रुगी की शारीर की तापमात्र कम करने के लिए शिर पर गिले पट्टी लगाना जरुरी है इसे शारीर का तापमात्र कम होता है. और घर के पंखा भी चलाके तापमात्र कम कियाजा सकता है.

  1. खाने का ध्यान रखना

डेंगू होने के कारन शारीर में थकन महसूस होता है इसका मतलब है की शारीर कमजोर है. तो इसीलिए खाने का अच्छा ख्याल रखना जरुरी है. इस समय में तरल प्रकार की आहार लेना उचित रहेगा.

ज्यादा से ज्यादा फल, साकसबजी खाना इस बीमारी से जल्दी से जल्दी छुटकारा पाने के लिए जरुरी है. जो भी खाना है दबाई के अनुसार खाना है. तो इस बात का बुखार शारीर से उतार जाने तक ध्यान रखना है.

  1. स्वच्छाता बनाये रखे

डेंगू ही नही बल्कि सभी प्रकार के बीमारी के लिए स्वच्छ रहना बहुत जरुरी होता है. अगर बीमार होने के कारन मरीज रोजाना स्नान नही कर सकता है तो आप मरीजो को स्पंज के सहायता लेके स्नान करबा सकते हो.

जिस पानी को मरीजो को नहाने के लिए इस्तेमाल करते हो उसे हो साके तो थोड़ासा Dettol जैसा कीटनाशक मिला सकते हो. तो ये किसी भी बीमार ब्यक्ति के लिए बहुत अच्छा होता है.

मरीजो की हाथ साफ रखने के लिए किसी सेनिटाहजर का इस्तेमाल कर सकते हो. और इस्तेमाल किये हुए कपड़े को साफ रखने के लिए रोजाना धुलाई कर सकते हो.

डेंगू से खुद को कैसे बचाए

आपने शारीर को कभी भी खुला ना रखना क्युकी अगर आपको डेंगू की मछार ने काटने में शक्षम हो जाता है तो डेंगू होने का खतरा रहता है. इसीलिए हमेशा आपने त्याचा को लम्बे शर्ट से ढके रखे. डेंगू की मछार सुभे और साम को ज्यादा सक्रिय हो जाता है.

अगर हो साके तो रात को मछार दानी का इस्तेमाल करे. अगर आपने आसपास कही पर भी जमे हुए पानी रहता है तो उसे कीटनाशक इस्तेमाल करके जिबाणु मुक्त करे. समय रहते ही साबधान रहे.

आखरी बाते

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में आपको Dengue symptoms in hindi के बारे में पूरी जानकरी देने की कौशिश किया. और मुझे पूरी उम्मीद हे की Symptoms of dengue in hindi के बारे में पूरी जानकारी आपको पता चला हो. तो हमेशा आपना ख्याल रखियेगा.

जल पदुषण क्या है और कैसे बचाब करे in Hindi

facebook पेज 

 

Leave a Comment