Avani Lekhara Biography in Hindi | Gold Medelist Avani Lekhara की जीबन परिचय

Avani Lekhara biography in hindi | अवनि लेखरा जीबन परिचय: आप सब को तो पता ही है अभी टोक्यो पैरालिंपिक खेल चल रहा है. तो पैरालिंपिक में बहुत सारे प्रकार के गेम खेला जाता है. तो एसे में निशानेबाज अवनि लेखरा पहली भारितीय महिला हे जिन्हीने भारत के लिए पैरालिंपिक में पहला गोल्ड मैडल जितके इतिहास रचा है.

avani-lekhara-biography-in-hindi
avani lekhara biography in hindi

टोक्यो पैरालिंपिक भारतीय पैरा एथलीटों के लिए बहुत शानदार रहा है. आज भारत ने गोल्ड मेडल के साथ खेल को शुरू किया है. Avani Lekhara ने भारत को पैरालिंपिक में पहला गोल्ड मेडल दिलाया है. तो आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे की Avani Lekhara biography in hindi,Who is Avani Lekhara, Avani Lekhara कहा का रहने वाला है, Avani Lekhara के बारे में पूरी जानकारी हासिल करेंगे. तो चलिए शुरू करते है की Avani Lekhara biography in hindi.

कौन है अवनी लेखरा ( Who is Avani Lekhara)

अवनी लेखरा एक भारतियो पैरा राइफल निशानेबाज हैं, उनका नाम महिलाओ की 10 मीटर एयर रायफल एस एच-1 की टॉप 5 में आता है. और अवनी लेखरा ने फाइनल में स्वर्ण पदक हासिल किया है.

अगर अवनी लेखरा की परिचय के बारे में बात करे तो अवनी लेखरा राजस्थान के जयपुर के रहने वाला है. अवनी के पिता का नाम है प्रवीन कुमार लेखरा और माता जी का नाम है श्वेता जेवरिया. पिछले कही सालो से अवनी लेखरा ने निशानेबाज की प्रैक्टिस कर रहा है और पिछले समय में भी उन्होंने कही सारे मेडल हासिल किया है.

नाम अवनी लेखरा
निक नाम अवनि
पिता का नाम प्रवीन कुमार लेखरा
माता का नाम श्वेता जेवरिया
जन्म तिथि 8 नवंबर 2001
जन्म स्थान जयपुर ( राजस्थान)
गावं जयपुर
शिक्षा उच्च शिक्षा कानून जयपुर
खेल निशानेबाज
धर्म हिन्दू
कोच सुभाष राणा , चन्दन जेपी नोतियल
राष्ट्रीयता भारितीय

अवनी लेखरा ने टोक्यो पैरालिंपिक में स्वर्ण पदक जितके इतिहास रचा

अवनि लेखरा ने फाइनल खेल में 249.6 अंक हासिल करके  विश्व रिकार्ड बना दिया और पहला स्थान हासिल किया. अवनि ने चीन की झांग कुइपिंग को 248.9 अंक से पीछे छोड़ा. यूक्रेन की इरियाना शेतनिक 227.5 बनाकर तीसरी स्थान हासिल किया और ब्रॉन्ज जीता. अवनि लेखरा ने इस बार पैरालंपिक  खेलों में गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी हैं. टोक्यो पैरालंपिक में ये मेडल देश का पहला गोल्ड मेडल है. और पैरालंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाली वह तीसरी भारतीय महिला बना.

अवनी लेखरा की जीबन में हारना माना है – अवनी लेखरा की अनसुनी कहानी

 

Leave a Comment